Wednesday, 3 June 2015

उत्पादन और लागत के सिद्धांत (सूक्ष्म अर्थशास्त्र) परिभाषाएं

आम तौर पर आपूर्ति और मांग का सिद्धांत यह मानता है कि बाजार पूर्ण रूप से प्रतिस्पर्द्धात्मक होते हैं। इसका मतलब यह है कि बाजार में कई क्रेता एवं विक्रेता हैं और किसी में भी वस्तुओं और सेवाओं की कीमतों को महत्वपूर्ण रूप से प्रभावित करने की क्षमता नहीं होती है।
   

कई वास्तविक जीवन के लेनदेन में, यह पूर्वधारणा विफल हो जाती है क्योंकि कुछ व्यक्तिगत क्रेताओं (खरीदार) या विक्रेताओं में कीमतों को प्रभावित करने की क्षमता होती है। अक्सर एक अच्छे मॉडल वाले मांग और आपूर्ति के समीकरण को समझने के लिए एक परिष्कृत विश्लेषण की आवश्यकता है। हालांकि, सामान्य स्थितियों में यह सिद्धांत अच्छी तरह से काम करता है।
मुख्यधारा के अर्थशास्त्र एक प्राथमिकता की पूर्वधारणा नहीं करते हैं कि बाजार सामाजिक संगठन के अन्य रूपों के लिए श्रेयस्कर होते हैं। वास्तव में, उन स्थितियों का अधिक विश्लेषण किया जाता है जहां तथाकथित बाजार की विफलता संसाधन आवंटन उपलब्ध कराती है जो कुछ मानक के द्वारा अधिक उच्च मानक या गुणवत्ता वाले नहीं होते हैं (राजपथ इसके क्लासिक उदाहरण हैं, जो उपयोग के लिए सभी के लिए लाभदायक होते हैं लेकिन वित्तपोषण के लिए सीधे तौर पर किसी के लिए लाभदायक नहीं होते हैं)! ऐसे मामलों में, अर्थशास्त्री उन नीतियों का पता लगाने की कोशिश कर सकते हैं जो सरकारी नियंत्रण द्वारा प्रत्यक्ष रूप से, अप्रत्यक्ष रूप से विनियम द्वारा जो बाजार के प्रतिभागियों को अनुकूलतम कल्याण के अनुरूप कार्य करने के लिए प्रेरित करता है, या कुशल व्यापार करना संभव करने के लिए पहले से अस्तित्व में नहीं रहने वाले "खोये हुए" बाजार का निर्माण कर, बर्बादी को रोकेंगे. इसका अध्ययन सामूहिक क्रिया वाले क्षेत्र में किया जाता है। यह भी ध्यान दिया जाना चाहिए कि "अनुकूलतम कल्याण" आम तौर पर परेटो संबंधी मानक का रूप लेता है, जो कैल्डोर-हिक्स के अपने गणितीय अनुप्रयोग में अर्थशास्त्र के मानदंड संबंधी पक्ष के भीतर सामूहिक क्रिया, अर्थात सार्वजनिक चुनाव (विकल्प) का अध्ययन करने वाले उपयोगितावादी मानक के साथ संगत नहीं रहता है। प्रत्यक्षवादी अर्थशास्त्र (सूक्ष्मअर्थशास्त्र) में बाजार की विफलता अर्थशास्त्री के विश्वास और उसके सिद्धांत को मिश्रित किये बिना प्रभावों में सीमित होती है। व्यक्तियों द्वारा विभिन्न वस्तुओं के लिए मांग को आम तौर पर उपयोगिता-अधिकतम करने वाली प्रक्रिया के परिणाम के रूप में माना जाता है। कीमत और मात्रा के बीच इस संबंध की व्याख्या के द्वारा एक दी हुयी वस्तु की मांग की गयी कि, सभी वस्तुओं एवं अवरोधों के रहने पर, विकल्पों का यह सेट ऐसा है जो उपभोक्ता को सबसे अधिक खुश बनाता है।

उत्पादन के सिद्धांत क्या हैं?
उत्पादन के सिद्धांत के अंतर्गत अर्थशास्त्र के कुछ मौलिक सिद्धांतों को शामिल किया जाता है! इस सिद्धांत की व्याख्या के सन्दर्भ में किसी उत्पादक या फर्म के द्वारा यह प्रयास किया जाता है कि किसी भी वस्तु की कितनी संख्या का उत्पादन किया जाये और उसके उत्पादन के लिए किन किन सामानों की आवश्यकता है, कितनी मात्रा में पूंजी की आवश्यकता है और कितने श्रम की आवश्यकता है! इसके अंतर्गत वस्तुओं की कीमतों और उनके रख-रखाव पर खर्च किये जाने वाले पूंजी को भी जोड़ा जाता है! इस सन्दर्भ में एक तरफ किसी वस्तु की कीमत और उत्पादनकारी कारकों के मध्य के संबंध की व्याख्या की जाती है.! साथ ही दूसरी तरफ वस्तु की मात्रा और उत्पादनकारी कारकों के मध्य भी संवंधों की भी व्यख्या की जाती है!

कोई भी आर्थिक इकाई जोकि किसी एक वस्तु या अनेक वस्तुओं के उत्पादन में संलिप्त रहती है उसे व्यापारिक फर्म कहते हैं1 इसके अंतर्गत आर्थिक स्रोत, उत्पादन के कारक आदि तथ्य वस्तु या वस्तुओं के उत्पादन में शामिल रहते हैं और लाभ की स्थिति पैदा करते हैं!
उत्पादन और लागत की सापेक्षता
एक व्यावसायिक फर्म विभिन्न आर्थिक संसाधनों को खरीदता है जिसे इनपुट कहा जाता है जबकि वह जब उन्हें बेंचता है तो उसे उस फर्म के आउटपुट कहा जाता है! उत्पादन के कारक जोकि किसी व्यावसायिक फर्म के द्वारा किसी वस्तु या सेवा के उत्पादनकारी कार्यों में इस्तेमाल किये जाते हैं इनपुट कहे जाते हैं! कोई भी फर्म इन इनपुटों के लिए पूंजी की इस्तेमाल करती है! इनपुट किसी भी वस्तु के लिए मूल्य पैदा करते हैं और अंततः आउटपुट को उत्पन्न करते हैं! और विस्तृत रूप में किसी वस्तु के उत्पादन के कारक कभी भी कम समय में बदले नहीं किये जा सकते हैं इन्हें स्थिर कीमत कहते हैं. जबकि उत्पादन के कारक जोकि किसी वस्तु के उत्पादन के कारकों के स्तर के ऊपर निर्भर करता है उसे बदलता हुआ इनपुट कहते हैं. बदलते हुए इनपुट यदि हम किसी वस्तु के उत्पादन को चुन लें तो परिवर्तित किये जा सकते हैं!
अवसर लागत
किसी गतिविधि (या वस्तुओं) की अवसर लागत सर्वश्रेष्ठ अगले पूर्वनिश्चित विकल्प के बराबर होती है। हालांकि अवसर लागत की मात्रा निर्धारित करना मुश्किल है, अवसर लागत का प्रभाव व्यक्तिगत स्तर पर सार्वभौमिक और बहुत ही वास्तविक होता है। वास्तव में, यह सिद्धांत सभी निर्णयों के लिए लागू होता है, न कि केवल आर्थिक सिद्धांतों के लिए. ऑस्ट्रेलियाई अर्थशास्त्री फ्रीड्रिक वॉन विजर कि रचना के समय से, अवसर लागत को मूल्य के सीमांत सिद्धांत की नींव के रूप में देखा गया है।
अवसर लागत किसी वस्तु की लागत को मापने का एक तरीका है। किसी परियोजना के लागतों की सिर्फ पहचान करना या लागतों को जोड़ने के बजाय, कोई व्यक्ति समान रुपये खर्च करने के लिए अगले सर्वश्रेष्ठ वैकल्पिक तरीके की भी पहचान कर सकता है। इस अगले सर्वश्रेष्ठ वैकल्पिक तरीके का लाभ मूल पसंद की अवसर लागत है। एक सामान्य उदाहरण एक किसान है जो अपनी भूमि को पड़ोसियों को किराए पर देने, जिसमें अवसर लागत किराए पर देने से होने वाला पूर्वनिश्चित लाभ है, की बजाय उस पर खेती करने का चुनाव करता है। इस स्थिति में, किसान अकेले ही अधिक लाभ उत्पन्न करने की आशा कर सकता है। इसी प्रकार से, विश्वविद्यालय में प्रवेश लेने का अवसर लागत खोयी हुयी मजदूरी है, जिसे कोई विद्यार्थी कार्यबल के द्वारा अर्जित कर सकता था, बजाय की ट्यूशन, पुस्तकों और अन्य आवश्यक वस्तुओं का खर्च है (जिसका योग उपस्थिति की कुल लागत की भरपाई करता है). बहामा में किसी छुट्टी की अवसर लागत एक घर के लिए तत्काल अदायगी की रकम हो सकती है। ध्यान दें कि अवसर लागत उपलब्ध विकल्पों का योग नहीं होता है, बल्कि बजाय एकल, सर्वश्रेष्ठ विकल्प का लाभ होता है। सही अवसर लागत उन सुचीबद्धों में से सबसे लाभकारी वस्तु से पूर्वनिश्चित लाभ होगा!
यहां एक सवाल उठता है कि इसके लाभ का मूल्यांकन करने के लिए तुलना को सहज करने एवं अवसर लागत का मूल्यांकन करने के लिए प्रत्येक विकल्प से जुड़े हुए एक डॉलर मूल्य का निर्धारण करना चाहिए, जो हमारे द्वारा तुलना की जाने वाली वस्तुओं पर निर्भर करते हुए कमोवेश कठिन हो सकता है। यह समझना अत्यावश्यक है कि कोई भी वस्तु नि:शुल्क नहीं है। कोई क्या करना चुनता है, इससे कोई फर्क नहीं पड़ता है, वह बदले में हमेशा कुछ छोड़ता रहता है। अवसर लागत का एक उदाहरण एक संगीत कार्यक्रम के लिए जाने और होमवर्क करने के बीच निर्णय करना है। यदि कोई व्यक्ति एक संगीत कार्यक्रम में जाने का निर्णय करता है, तब वह अध्ययन के बहुमूल्य समय को खो रहा है, लेकिन अगर वह होमवर्क करना चुनता है तब तो लागत संगीत कार्यं को छोड़ रहा है। सुक्ष्मअर्थशास्त्र एवं किये गए निर्णय को समझने के लिए अवसर लागत महत्वपूर्ण है।
ह्रासमान का  अर्थ
अर्थशास्त्र में एक अवधारणा का इस्तेमाल किया जाता है, की उदारहरण के लिए यदि किसी वस्तु के उत्पादन के लिए श्रमिकों की संख्या को बढ़ा दिया जाये और उदाहरण के लिए मशीनों और काम के स्थानों को स्थिर रखा जाये तो एक तरफ वस्तुओं का उत्पादन बढ़ जायेगा और प्रति वस्तु उत्पादन का खर्च भी कम आएगा! यदि आउटपुट में जैसे ही बढ़ोत्तरी होती हैं तो कार्यबल की सीमांत उत्पादकता उत्पादन कम होती है! एक उदहारण के माध्यम से हम समझ सकते हैं! रिटर्न ह्रासमान का मतलब यह नहीं कि नकारात्मक रिटर्न है जब तक की श्रमिकों की संख्या उपलब्ध मशीनों से अधिक है. हर रोज के अनुभव में, इस कानून को निम्न रूप में व्यक्त किया जा सकता है, "लाभ दर्द के लायक नहीं होता है।
वापसी ह्रासमान कानून को अधिक, स्पष्ट करने के लिए निम्नवत तथ्यों पर ध्यान देना आवश्यक है :
  1. उत्पादन की विधि इनपुट परिवर्तन के अनुसार परिवर्तित नहीं होता है!
  2. जब लागू नहीं होता तब सभी आदान विविध रहते हैं!
  3. हम जब उत्पादन के कारकों में इसका इस्तेमाल करते हैं तो शास्त्रीय उत्पादन प्रक्रिया को प्राप्त करते हैं!
  4. पहली बार में मामूली रिटर्न बढ़ती  है और बाद में सीमांत रिटर्न कम होती है!
  5. यह संभव है कि सीमांत रिटर्न चर इनपुट आवेदन के शुरुआत के साथ ही कम हो सकता है!



किसी एक वस्तु या वस्तुओ या सेवा के उत्पादन हेतु जरुरी संसाधन  भूमि, श्रम, पूंजी होते हैं! इन जरुरी इनपुट के रूप में इस्तेमाल किया जाता है! श्रम,  से यहाँ आशय है की किसी एक कम्पनी में किसी वस्तु के उत्पादन हेतु मजदूरों और कामगारों की जरुरत से है! ये कामगार वर्ग वस्तुओं के उत्पादन में अपनी अभूतपूर्व भूमिका निभाते है और किसी कम्पनी के लाभ में अपनी सहभागिता निभाते हैं किसी भी कम्पनी में कोई उद्योगपति किसी वस्तु केउत्पादन में यद्यपि प्रत्यक्ष रूप से तो भूमिका नहीं निभाता है लेकिन वह उन वस्तुओं के उत्पादन को संभव बनाने के लिए जरुरी संसाधनों को मुहैया कराता है! साथ ही कम्पनी को लाभकारी स्थिति में पहुँचाने में मदद करता है!

लेख शेयर करें

0 comments: